Skip to content Skip to sidebar Skip to footer

दिल का कुसूर बस इतना था

कुसूर तो था इन आँखों का,
जो चुपके से दीदार के बैठा.
हमने तो खामोश रहने की ठानी थी,
पर बेवफा ये दिल इज़हार कर बैठा. Pyar ki Shayari

Download “Image”

Dil-ka-kusoor-Shayari.png – Downloaded 147 times – 12.21 KB

Copyright © 2024
by ArtoMania Studio Pvt Ltd.